Posts

Showing posts from February, 2018

म्यूजियम में भूत

Image
म्यूजियम में भूत - चंपक कहानियांMusium me bhoot  Champak stories in Hindi


स्कूल से लौटते ही आर्यन खेलने के लिए अपना बैट ले कर घर से निकल ही रहा था कि फोन की घंटी बज उठी । हैल्लो आर्यन , मैं हर्ष बात कर रहा हूँ । तुम अभी तक मेरे घर नही आये  । क्या तुम्हें याद नही है कि आज हमें म्यूजीयम जाना था ? 
आर्यन - " मैं तो  बिल्कुल भूल ही गया था अच्छा हुआ तुमने याद दिला दिया । मैं बस थोड़ी ही देर में पहुंचता हु ।
जल्दी ही दोनों दोस्त शहर में नए खुले हुए म्यूजीयम में पहुंच गए ।
हर्ष को एंटीक चीजों में बहुत दिलचस्पी थी । लेकिन आर्यन को इन सब चीजों से बोरियत महसूश होती थी , फिर भी दोस्ती की खातिर उसे आना पड़ा ।
देखो ये मुखौटे कितने बड़े और सुंदर हैं । हर्ष ने दो मुखौटे आर्यन को दिखाते हुए कहा । " सचमुच सुन्दर हैं ". उस म्यूजियम के डायरेक्टर आर. जी. मेहता ने उन दोनों के कंधों पर हाथ रखते हुए कहा । उन दोनों ने पीछे मुड़ कर उनको हैल्लो कहा । " इन के अलावा भी यहां कई दिलचस्प चीजे हैं । जैसे राजस्थान में बना हुआ ये लकड़ी का बड़ा बक्सा । देखो इस पर कितनी सुंदर पुरानी पेंटिंग बनी हुई है "…

तिजोरी - प्रेरणादायक कहानी

Image
तिजोरी प्रेरणादयक कहानी - जरूर पढ़ें  Tijori motivational story in Hindi

एक औरत एक मौलवी साहब के पास जाती है और उनसे कहती है " मौलवी साहब कोई ऐसा तावीज़ लिख दीजिए जिससे मेरे बच्चे रात को भूख से रोया न करें "।

मौलवी साहब ने तावीज़ लिख दिया ।

अगले ही दिन उसके आँगन में एक पैसों से भरा हुआ थैला मिला ।

उन पैसों से उसके पति ने एक दुकान किराये पर ले ली ।
और अपना कारोबार शुरू कर दिया ।

कारोबार में काफी फायदा हुआ और उनकी दुकानें बढ़ती गयीं ।
अब उनको पैसों की कोई कमी नहीं रही ।

एक दिन उस औरत की नज़र  पुराने संदूक में रखी उस तावीज़ पर पड़ी ।
उसने सोचा के जाने इसमे मौलवी साहब ने ऐसा क्या लिखा था जिसकी वजह से मेरी गरीबी दूर हो गयी और मेरे हालात बेहतर हो गए ।

ये जानने के लिए उसने वो तावीज़ खोलकर देखने का फैसला किया ।
उसने तावीज़ खोली और पढ़ने लगी ।
उसमे लिखा था " जब तुम्हारी गरीबी दूर हो जाए और पैसों की कोई कमी ना रहे तब सारे पैसे तिज़ोरी में छुपाकर  रखने के बजाए कुछ ऐसे घरों में भी डाल देना जहाँ रात में बच्चों के रोने की आवाज़ आती हो ।।।


Chor - Ek anokhi kahani

Image
Anokhe chor ki anokhi kahani Best ever story in Hindi 

Aaj ki is bhag - daud bhari zindagi me log apne aas - paas k halaat se bekhabra hote ja rahe hain .
Har insan sirf apne bare me soch raha h kisi k pas itna waqt nahi k wo dusro k dukh,dard k bare me soch sake aur unki madad kar sake .

Is Dunia me Aise bahot se log aur bache h jo ghareeb hone k sath sath apne jism k kisi n kisi hisse se lachar aur majboor hote hain .
Hamare aas - paas bhi aise kayi
log honge jinhe ham aksar dekhte honge lekin ham unki madad krne aur hausla badhane k bajae unse bach kar nikalte hain .


Bas addon , rail platforms aur lagbhag sabhi jagaho par aise bhot se ghareeb bache dekhne ko milte h jinki halat achi ni hoti .
Fate huye , purane , maile - kuchaile kapde pahne ye bache kuch na kuch mangte rahte hain jinme kuch hi aise achhe log hain jo unhe kuch na kuch dete hain .


Agar aapki position achi h to apni position k mutabiq aapka farz hai k ghareeb aur mazboor logon ki madad ki jaye .
Aapki …